Today…Forever

-by Abhishek Bishnoi He raped a girl inside the a sacred place where God was supposed to live. He called himself religious, probably he knew that he was not human enough to call himself spiritual. When the public got to know about it, the Godly law spread its arms wide assuring justice to all three, …

उस पार से

- द्वारा अभिषेक बिशनोई "प्रेम स्वयं एक धर्म है, सबसे बड़ा, करने की हिम्मत क्यों नहीं करते बजाय उसके जाति धर्म जानने के , तुम कितने डरने लगे हो जवान, तुम इतने प्रतिबंधों से बंधित होकर अपना जीवन कैसे व्यतीत कर लोगे? तुम अंदर से खोखले हो। क्रांति लाओ अपने अंदर वीर!" इतना कहकर भगतसिंह …