रेवती

-आशुतोष उपाध्याय कोलकाता के St. Xavier कॉलेज की शुरुआती बैचेस में से एक; 1991 वाली बैच का गेट टूगेदर है आने वाले शनिवार को। “रेवती मैंने तुमसे कहा ना कि मैं नहीं जा रहा हूं, फिर क्यों तुम ज़िद पर अड़ी हो?” इस बार राकेश की आवाज़ में थोड़ी सख़्ती थी। “राकेश ऐसा नहीं चलेगा! मैं …

Advertisements

I loved to hide you…

-by Lydia Leena I loved to hide you in my eyes, But you loved to visit me all the time, When I am happy, When I am sad, When I am alone, When I achieve, When I miss someone, Every single moment You wished to visit me I loved the way you embrace me, But …

धुंधला गंतव्य

-नयन सेठिया, अंतिम वर्ष(ईसीई), एस.जी.एस.आई.टी.एस इंदौर थोड़ा भीगा सा है, थोड़ा धवल सा है, धुंध से अलंकृत यह संसार, जहाँ मैं भी बावरा बन, मनमौजी सा, कोहरे से सने उस गंतव्य की ओर, बस यों बढ़ता ही चला गया। अनजान था रास्ता,अजनबी सा अरमान था, थोड़ा हिचका, थोड़ा झिझका, बढ़ा, फिर रुका, रुककर फिर बढ़ा, …